Friday, May 11, 2018

वह अनजान औरत


पार्क में सन्नाटा भरता जा रहा था मैं अब अपनी समस्त शक्ति को श्रवणेन्द्रियों की ओर मोड़ कर उनकी बातचीत सुनने का प्रयत्न करने लगा। पार्क की लाइटें एक एक करके जलने लगी थीं। छोटे बच्चे धीरे धीरे जाने लगे पार्क में टहलने आने वाले बुजुर्ग भी अब बाहर की तरफ बढ़ने लगे कुछ युगल जोड़े अभी भी झाड़ियों के झुरमुट में थे लेकिन उनकी आवाज़ बमुश्किल एक दूसरे तक पहुँचती होगी इसलिए उनसे कोई शोर नहीं होता। चना जोर गरम वाला और मूंगफली गुब्बारे वाले भी अपने ग्राहकों के जाते ही दिन भर का हिसाब करने चल दिए थे। कुल मिला कर चारों ओर शांति ही शांति थी इसलिए थोड़ी कोशिश करके मैं उनकी बातें सुन सकता था।
दूसरी लड़की या कहें महिला पीली शिफ़ोन की साड़ी पहनी थी और नीली साड़ी वाली का हाथ थामे पूछ रही थी "क्या बात है ठीक से बता तो।"
मैं अपनी बेंच पर उनकी बेंच तरफ के किनारे तक खिसक आया। उन दो अनजान महिलाओं की बातें सुनने की स्वयं की उत्सुकता से मैं स्वयं ही चकित था। मुझे दूसरों की बातों में कभी भी ऐसा रस तो नहीं आता था। अब यह अकेलेपन की ऊब थी या उन दोनों या उनमे से किसी एक का आकर्षण जिसकी वजह से मैं जानना चाहता था कि वे क्या बातें कर रही हैं।
"तुझे तो मालूम है विजय पिछले दस सालों से दुबई में है। शादी के तीन सालों बाद ही वो वहाँ चले गए थे तब राहुल दो साल का था। शुरू शुरू में तो डेढ़ दो साल में एक बार इंडिया आते थे। तब मम्मी पापा दोनों ही थे। उनका आग्रह टाल नहीं पाते थे।

कहानी संग्रह परछाइयों के उजाले को आप सभी पाठकों मित्रों से मिले प्रतिसाद के बाद अब मैं अपने उपन्यास छूटी गलियाँ लेकर आपके सामने हाजिर हुई हूँ। पिता पुत्र के रिश्तों पर आधारित यह उपन्यास महत्वाकांक्षा दूरी जिम्मेदारी पश्चाताप और प्रायश्चित की मिलीजुली अनुभूति के साथ आपको इस रिश्ते के अनोखेपन में डुबो देगा ऐसा मेरा मानना है। उपन्यास की कीमत है 120 रुपये इसे आप बोधि प्रकाशन bodhiprakashan@gmail.com पर मेल या 98290 18087 पर फोन कर आर्डर कर सकते हैं।
कविता वर्मा

Tuesday, May 8, 2018

छोटी सी जिम्मेदारी

कुछ समय पहले घर के पास एक खंबे पर बड़ा सा हैलोजन लगा है। एक दिन दोपहर में बाहर जाते समय देखा हैलोजन चालू था।(मेरे घर के सामने बड़ा सा नीम का पेड़ है इसलिए न सड़क दिखती है न लाइट।) थोड़ा ध्यान से देखा तो पाया कि डायरेक्टर तार जोड़ कर चालू कर दिया गया है और वह दिन रात जल रहा है।
दूसरे दिन आसपास देख कर उसका फोटो खींच लिया। (कोई फोटो खींचते देख लेता और शिकायत करने पर वह बंद हो जाता तो मोहल्ले में मेरे नाम के कसीदे पढे जाते।)
कल नगर निगम के एप पर उसकी शिकायत कर दी। आज दिन में फोन आया मैडम कौन-सी लाइट चालू करना है?
मैंने बताया भैया चालू नहीं करना बंद करना है दिन रात जल रही है उसकी व्यवस्था करो।
शाम को फिर फोन आया मैडम उसे स्ट्रीट लाइट फीडर पर डाल दिया है और टाइमर लगा दिया है। अब सुबह बंद हो जायेगा शाम को चालू हो जायेगा।
बात छोटी सी है आसपास रहने वाले सभी लोगों को दिख रहा था लेकिन किसी ने उसकी व्यवस्था करवाने के लिए नहीं सोचा क्योंकि उसका बिल उनके यहाँ नहीं आ रहा था। लोग यह क्यों नहीं समझते कि जब बिजली के खपत के मुताबिक बिल वसूली नहीं होती वह कमर्शियल लाॅस कहलाता है और इसलिए बिजली के दाम बढ़ते हैं।
कविता वर्मा 

Tuesday, May 1, 2018

मजदूर दिवस

आज मजदूर दिवस है हम न खुद मजदूर हैं और न सीधे इन मजदूरों के संपर्क में हैं। एक काम वाली बाई ही मजदूरों के नाम पर संपर्क में रहती है।
अभी कुछ दिन पहले छोटे से काम के लिए एक मजदूर लेकर आये थे पूरे दिन की दिहाड़ी तीन सौ रुपए देकर। उसका काम करने का टालू तरीका देख समझ आ गया कि इसे काम बता कर अंदर नहीं जाया जा सकता। खैर उसे बताया क्या करना है कैसे करना है लेकिन उसकी सुस्त रफ्तार देख कोफ्त होने लगी। फिर मैंने उससे कहा अच्छा तुम तो हमेशा ये काम करते हो तुम बताओ कैसे करें? ऐसा काम करके जाओ कि याद रहे कि किसी से काम करवाया था वगैरह वगैरह। उसके बाद उसने काम में मन भी लगाया और फुर्ती से काम भी निपटाया।

काम वाली को आज छुट्टी नहीं दी क्योंकि अभी तीन दिन शादी के लिए छुट्टी ले चुकी है और चार महीने का एडवांस भी। आज पानी के चार डब्बे लेकर आई थी पानी भरने फिर काम न करवाना तो खुद को ठगना हुआ । हर बात में काम न करने को प्रोत्साहित करने के बजाय मेहनत से काम करने की सीख देने और उनकी वक्त जरुरत पर सही सलाह देना प्रोत्साहन देकर आत्मविश्वास बढाना और उनकी जरूरत पर काम आना ज्यादा जरूरी है।
कविता वर्मा 

Friday, April 13, 2018

मानसिकता बदलें

बात तो बहुत छोटी सी है और कोई नई बात भी नहीं है रोज होती है और सैंकड़ों हजारों के साथ होती है। फिर भी उसका जिक्र करना चाहती हूँ पूछना चाहती हूँ अपने सभी मित्रों से खास कर पुरुष मित्रों से। उम्मीद नहीं है कि आप यहां जवाब देंगे न भी दें लेकिन इस पर विचार तो करें। अपने आप में और अपने बेटों में इस तरह का व्यवहार देखें तो सजग हो जायें। समझें कि सोच में बदलाव की जरूरत है।

कल फेसबुक पर एक फ्रेंड रिक्वेस्ट आई प्रोफाइल ठीक ठाक थी सौ से ज्यादा म्यूचुअल फ्रेंड थे स्वीकार कर ली। आज जय हिंद संदेश आया। मैसेंजर पर मैसेज भेजने से मना किया। कहा फेसबुक पर पोस्ट हैं उस पर विचार व्यक्त करें।
ऐसा तो होता ही रहता है। लेकिन सिर्फ यही नहीं होता। आहत होता है एक पुरुष का अहं कोई महिला किसी बात से मना कैसे कर दे?
 जिस बात को वह सही मान रहे हैं उसे कोई महिला गलत कैसे कह रही है?
अगर दोस्ती की है तो उनकी मर्जी सर्वेसर्वा होना चाहिए महिला को पसंद नहीं है तो क्या फर्क पड़ता है? उसकी पसंद नापसंद के हमारे लिए कोई मायने नहीं हैं।
फेसबुक पर भी ना सुनने में जो पौरुष आहत हो जाता है शब्द बाण चला कर महिला को नीचा दिखाने की कोशिश करता है फिर अनफ्रेंड ब्लाक कर अपने अहं की तुष्टि करता है ऐसे पौरुष के साथ आम जिंदगी में बराबरी करती लडकियों महिलाओं के लिए कितनी बड़ी बड़ी मुसीबतें हैं।
कैसे मान लें फेसबुक के ये आहत पौरुष असल जिंदगी के भावी बलात्कारी नहीं होंगे।
हम दुखी होते रहेंगे बलात्कार की घटनाओं से सरकार से प्रशासन से जवाब मांगते रहेंगे अपनी बेटियों को सतर्क करते रहेंगे लेकिन जब तक पौरुष की सही परिभाषा नहीं समझी जायेगी बलात्कार होते रहेंगे।
कविता वर्मा

Saturday, April 7, 2018

इन्हें कौन दिशा देगा ?

बेटी तब 9 वीं में थी। शाहिद कपूर नया नया आया था और इस आयु वर्ग के सभी बच्चे उसके बड़े फैन थे।
बेटी की क्वार्टरली एक्जाम का रिजल्ट और काॅपी देखने स्कूल गई थी। इंग्लिश की काॅपी देख कर वह बड़ी मायूस हुई कि my hero पर लिखे उसके पैराग्राफ में सर ने बहुत कम नंबर दिये। वह चाहती थी कि मैं सर से इस बारे में बात करूं। मैं काॅपी लेकर सर के पास गई और उनसे पूछा कि आपने इस पैराग्राफ में नंबर दिये ही क्यों?  आपने इसे पूरा काट क्यों नहीं दिया? हीरो का मतलब क्या होता है किसे अपना हीरो अपना आदर्श बनाया जाना चाहिए यह भी आप नहीं समझा पाये बच्चों को। क्या किया है शाहिद कपूर ने देश के लिए?
सर और बिटिया के साथ वहाँ उपस्थित बाकी पैरंट्स भी सन्न थे लेकिन मैंने कहा कि आप बच्चों के मार्कस् की चिंता न करें बल्कि सही कंसेप्ट देने की चिंता करें। आपकी जगह मैं होती तो पूरे पेज पर ऊपर से नीचे तक कट लगा कर शून्य देती और अगली बार अगर ऐसे हीरो के बारे में लिखे मेरी बेटी तो आप उसे जीरो ही दें।
आज टीवी पर रोना बिसूरना और उसको भुनाना देख कर याद आया।
कविता वर्मा

Thursday, March 29, 2018

अपनी कृति को एक उपन्यास के रूप में अपने हाथों में देखने का अहसास कितना सुखद होता है यह शब्दों में व्यक्त करना बेहद मुश्किल है। मेरा चिर प्रतिक्षित उपन्यास 'छूटी गलियाँ' बोधी प्रकाशन से प्रकाशित होकर जब आया तो उसकी खुशी आप सभी से बांटे बिना पूरी हो ही नहीं सकती थी।
पढने के इच्छुक सभी मित्रगण बोधी प्रकाशन से इसे मंगवा सकते हैं। मूल्य है 120 रुपये।
बोधी प्रकाशन
सी 46 सुदर्शन पुरा इंडस्ट्रियल एरिया एक्सटेंशन
नाला रोड़, 22गोदाम
जयपुर 302006
bodhiprakashan@gmail.com

98290 18087 पर एसएमएस कर सकते हैं किताब का नाम और खुद का पूरा पता डाक के लिए। पेमेंट पेटीएम या अकाउंट में जैसी सुविधा हो।

Sunday, February 18, 2018

#नई कहानी 2

कॉलेज में पहला दिन साड़ी हाथों में चूड़ियाँ गले में मंगलसूत्र कानों में गूँजता  'आंटीजी' संबोधन और अब क्लास का रास्ता पूछने पर अजीब सी घूरती निगाहों ने उसके बचे खुचे आत्मविश्वास को बुरी तरह चकनाचूर कर दिया। बड़े शहर में आकर फाइनल करने के उसके फैसले के सही होने का विश्वास डगमगाने लगा। खुद को इतना अकेला उसने कभी महसूस नहीं किया था। जिसके साथ रहने  लिए उसने यह फैसला किया था वह साथ तो थे लेकिन इस समय उनका हाथ थाम हिम्मत पाने की जरूरत बेतरह महसूस होने लगी। वह भी तो अपनी मजबूरी में बंधे थे। उसे कॉलेज के गेट पर छोड़ कर अपनी नई नवेली पत्नी के लिए एक बेहतर आशियाना देने के लिए दो गाड़ियाँ बदल कर पच्चीस किलोमीटर दूर अपनी नौकरी पर जाना भी तो जरूरी था। क्या पता कुछ ना कह पाने और कुछ ना कर पाने की मजबूरी में उन्होंने भी अपनी आँखें धीरे से पोंछी हों। 
क्लास में प्रवेश करते ही सबकी निगाहें उसकी और घूम गईं जिसने उसे संकोच के मोटे आवरण में लपेट दिया। थोड़े ही समय बाद उसने फलाने की बहू के रूप में खुद का परिचय होते पाया। यह बेहद अप्रत्याशित था। उसका अपना एक नाम है लेकिन वहाँ मौजूद एक दो लड़कियों के सिवाय किसी ने उसका नाम जानने की इच्छा तक प्रकट नहीं की। वैसे भी बड़े शहर के प्राइवेट कॉलेज में साड़ी पहने एक लड़की जिसके जेठ भी उसी कॉलेज उसी क्लास में हों उसका नाम कुछ भी हो उसकी योग्यता कुछ भी हो क्या फर्क पड़ता है ?
उस दिन तीन क्लास लगीं हर प्रोफ़ेसर और लेक्चरर को उसका परिचय बहू के रूप में दिया गया उसके आगे एक स्टूडेंट के रूप में उसका कोई वजूद ही नहीं था। लगभग साढ़े ग्यारह बजे कॉलेज छूटा। सुबह जल्दी उठ कर तैयार होने टिफिन बनाने के बाद इतना समय ही कहाँ था कि खुद के खाने का ख्याल रहता। एक कप दूध जरूर उसने पी लिया था वह भी विदाई के समय मम्मी ने जिठानी से कह दिया था उसके दूध का ख्याल रखना इसलिए पहले दिन से उसे चाय के स्थान पर एक कप दूध मिल जाता था। पेट में चूहे कूद रहे थे मन मरा हुआ था। वापसी के लिए लगभग एक किलोमीटर पैदल चलकर टेम्पो लेना था फिर उतर कर लगभग एक किलोमीटर और चलना था। सिर बुरी तरह दुःख रहा था थोड़े पैसे पास में थे लेकिन रास्ते में रुक कर कुछ लेने और खाने की हिम्मत नहीं बची थी। 
हालाँकि सुबह वह रास्ता पहचानने  लिए बड़े ध्यान से दुकानों के साइन बोर्ड देखती आई थी जहाँ से उसे मुड़ना था लेकिन सुबह जो साइन बोर्ड सामने दिख रहे थे अब वे पीछे हो गए थे और वह मोड़ जहाँ से उसे मुड़ जाना था वह पीछे छूट गया। आगे बढ़ते हुए वह एक बड़े चौराहे पर आई तब अपनी गलती समझ आई। भूख से अंतड़ियाँ और सिर टनक रहा था। उसने किसी से रास्ता पूछा और लगभग पौना किलोमीटर और घूम  कर टेम्पो स्टैंड पर आई। थोड़े इंतज़ार के बाद ही टेम्पो मिल गया। अब उसकी अगली चिंता शुरू हो गई कि उसे उतरना कहाँ है ? वैसे उसने देखा था जहाँ से वह टेम्पो में चढ़ी थी वहाँ एक डॉक्टर का साइन बोर्ड लगा था। उसने अपना स्टॉप बताया लेकिन फिर भी आशंकित सी बैठी रही। 
काफी देर चलते रुकते सवारियाँ चढ़ाते उतारते टेम्पो एक स्टॉप पर रुका और उसे उसी डॉक्टर का साइन बोर्ड दिखा और वह तेज़ी से टेम्पो से उतर गई। टेम्पो वाले ने उसे घूर कर देखा लेकिन भूख थकान और मरे मन के साथ दिमाग ने काम करना ही बंद कर दिया था। टेम्पो आगे बढ़ गया उतर कर उसने चारों तरफ देखा तो लगा कि यह वह चौराहा नहीं है जहाँ से वह चढ़ी थी। आधे घंटे पहले एक मोड़ छोड़ देने की गलती की ग्लानि और गुस्से ने अब उसे एक चौराहे पहले ही टेम्पो से उतार दिया था। दोपहर के एक बज रहे थे क्वांर की चिलचिलाती धूप खाली पेट उसकी रुलाई छूट गई। 
पापा के यहाँ कभी भी कहीं जाना होता था तो भाई मोटरबाइक से छोड़ देते थे या पापा के ऑफिस की जीप से ड्राइवर। जीवन के इतने बेरहम यथार्थ से उसकी पहली मुठभेड़ थी यह बिना किसी तैयारी के। अब उसे लगभग दो किलोमीटर और चलना था दोपहर की धूप में उस सुनसान सड़क पर चलते हुए एक और विचार उसके मन में कौंधा अगर उसे घर नहीं मिला तो ? उसकी रुलाई छूट गई लेकिन दिमाग ने खुद के गुम होने पर घर ढूंढने के उपाय खोजने शुरू कर दिए। शुक्र है इसकी नौबत नहीं आई एक किलोमीटर चलने पर उसे पहचाना रास्ता मिल गया। दरवाजा खटखटाते समय लगभग डेढ़ बज रहा था दरवाजा तो खुला लेकिन उसका स्वागत अंदर पसरी बोझिलता ने किया। 
कविता वर्मा 

वह अनजान औरत

पार्क में सन्नाटा भरता जा रहा था मैं अब अपनी समस्त शक्ति को श्रवणेन्द्रियों की ओर मोड़ कर उनकी बातचीत सुनने का प्रयत्न करने लगा। पार्क...